ghazalMirza GhalibUrdu Shayari

हम-ज़बाँ कोई न हो

रहिए अब ऐसी जगह चल कर जहाँ कोई न हो
हम-सुख़न कोई न हो और हम-ज़बाँ कोई न हो

बे-दर-ओ-दीवार सा इक घर बनाया चाहिए
कोई हम-साया न हो और पासबाँ कोई न हो

पड़िए गर बीमार तो कोई न हो तीमारदार
और अगर मर जाइए तो नौहा-ख़्वाँ कोई न हो

मिर्ज़ा ग़ालिब

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
Close